Rabindranath Tagore short Biography Hindi. रबीन्द्रनाथ टैगोर short Biography Hindi


Rabindranath Tagore short Biography Hindi 

रबीन्द्रनाथ टैगोर short Biography Hindi 




रबीन्द्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore) एक प्रसिद्द भारतीय कवि  थे। जिनका जन्म 7 मई, 1861 को कलकत्ता के प्रसिद्ध जोर सांको भवन में हुआ था। उनका जन्म एक समृद्ध और सुसंस्कृत ब्राह्मण परिवार में हुआ था। उनके पिता का नाम देबेन्द्रनाथ टैगोर (देवेन्द्रनाथ ठाकुर) , जो की ब्रह्म समाज के नेता थे।उनकी माता का नाम शारदा देवी था।1875 में जब टैगोर की आयु 14 वर्ष थी , तभी इनकी माता का देहांत हो गया था।रवीन्द्रनाथ टैगोर  (Rabindranath Tagore) की बाल्यकाल से ही कविताएं और कहानियाँ लिखने में रुचि थी रबीन्द्रनाथ टैगोर  को प्रकृति से विशेष लगाव था। 




Rabindranath Tagore short Biography Hindi. रबीन्द्रनाथ टैगोर short Biography Hindi
Rabindranath Taogre Biography hindi




Rabindranath Tagore (रबीन्द्रनाथ टैगोर)



  • एक प्रसिद्ध कवि होने के साथ ही साथ, रबीन्द्रनाथ टैगोर  एक प्रतिभाशाली लेखक, उपन्यासकार, संगीतकार, नाटक लेखक, चित्रकार और दर्शनशास्त्री भी थे। एक अच्छे दर्शनशास्त्री होने की वजह से ,स्वतंत्रता संघर्ष के समय भारतीय लोगों की बड़ी संख्या पर उन्होंने अपनी छाप छोड़ी । उन्होंने भारतीय संस्कृति के सर्वश्रेष्ठ रूप का पश्चिमी देशों से और पश्चिमी देशों की संस्कृति का भारत से परिचय कराने में टैगोर की अहम भूमिका रही। शायद वह पहले व्यक्ति हैं ,जिन्होंने अपने सृजनात्मक लेखन से पूरब और पश्चिम के बीच की दूरी को कम कर दिया। तथा इसीलिए उनको आधुनिक भारत के असाधारण सृजनशील कलाकार के रूप में जाना जाता है।

  • रबीन्द्रनाथ टैगोर  बचपन से हीं बहुत प्रतिभाशाली थे। उन्हें कला की कोई औपचारिक शिक्षा नहीं मिली थी। सेंट ज़ेवियर स्कूल से उनकी शिक्षा आरम्भ हुई।उच्च शिक्षा के लिये 1878 में इंग्लैंड गए , लेकिन पढ़ाई पूरी किए बिना हीं वापस लौट आए, क्योंकि उन्हें एक कवि और लेखक के रुप में आगे बढ़ना था।प्रकृति से लगाव होने की वजह से उनका मानना था कि विद्यार्थियों को प्राकृतिक माहौल में हीं पढ़ाई करनी चाहिए। उन्हें "गुरुदेव" के नाम से भी जाना जाता है।उनकी दो रचनाएँ  जन मन गण” (भारत का राष्ट्रगान) औरआमार सोनार बांग्ला” (बांग्लादेश का राष्ट्रगान)बहुत प्रसिद्द हुई टैगोर "रबीन्द्रनाथ ठाकुर" के नाम से भी जाने जाते थे। कालीदास के बाद, वह एक महान कवि माने जाते है पूरी दुनिया को उनकी प्रतिभा के बारे में तब पता चला ,जब उनकी रचनाओं का अंग्रेजी में अनुवाद होने लगा।

महत्वपूर्ण जानकारी तालिका में दी गयी है--

जन्म
    7 मई, 1861
मृत्यु
    7 अगस्त 1941
पिता का नाम
    देबेन्द्रनाथ टैगोर
माता का नाम
     शारदा देवी
प्रमुख रचनाएँ 
    जन मन गण” ,आमार सोनार बांग्ला
कविता संग्रह 


सामाजिक जीवन (Social Life):

 
  •    'बंग-भंग आंदोलन' का आरम्भ 16 अक्तूबर 1905 को रवीन्द्रनाथ के नेतृत्व में कोलकाता में मनाया गया रक्षाबंधन उत्सव से हुआ। इसआंदोलन से भारत में 'स्वदेशी आंदोलन' शुरू हुआ जलियाँवाला बाग(1919) में जो नरसंहार हुआ उससे वह बहुत दुखी थे। जिसमें जनरल डायर और उसके सैनिकों ने 13 अप्रैल 1919  को महिलाओं और बच्चों सहित बहुत सारे निर्दोष लोगो को मार दिया था। जलियांवाला कांड की टैगोर ने घोर निंदा की और इस  विरोध में उन्होंने ब्रिटिश प्रशासन द्वारा प्रदान की गई, 'नाइट हुड' की उपाधि लौटा दी। 'नाइट हुड' का मतलब , नाम के साथ  'सर' लगाया जाता है

  •  कविता, गान, कथा, उपन्यास, नाटक, प्रबन्ध, शिल्पकला - सभी विधाओं में उनकी  रचनाए मिलती है उनकी प्रकाशित रचनाओं में - गीतांजली, गीताली, गीतिमाल्य, कथाओ कहानी, शिशु, शिशु भोलानाथ, कणिका, क्षणिका, खेया आदि प्रमुख हैं।ऐसा माना जाता है कि टैगोर ने करीब 2,230 गीतों की रचना की है ।कविताओं और कहानियों  के रुप में उन्होंने लोगों के मानसिक और नैतिक भावनाओ को प्रदर्शित किया है।


Rabindranath Tagore 159th birthday,Rabindranath Tagore
Rabindranath Tagore

  •    पश्चिम बंगाल के ग्रामीण क्षेत्र में 1901 में टैगोर ने एक प्रायोगिक विद्यालय 'शांतिनिकेतन' की स्थापना ,पांच छात्रों को लेकर की थी। इन पांच छात्रों में उनका पुत्र भी शामिल था। 'विश्वभारती' जिसे 1921 में राष्ट्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा मिला था ,उसमे  लगभग छह हजार छात्र पढ़ते थे इसी के आस पास  शांतिनिकेतन बसा था। जहाँ उन्होंने भारतीय और पश्चिमी परंपराओं को मिलाने का प्रयास किया था ।शांति निकेतन साहित्य, संगीत और कला की शिक्षा के क्षेत्र में पूरे देश में आदर्श विश्वविद्यालय के रूप में जाना  जाता है। इंदिरा गाँधी जैसी कई प्रतिभाओं ने शान्तिनिकेतन से शिक्षा प्राप्त की है।
  • 1913 में डॉ. आल्फ्रेड नोबेल फाउंडेशन ने रवीन्द्रनाथ जी को  गीतांजलिलिए नोबेल पुरस्कार प्रदान किया।  रवीन्द्रनाथ टैगोर जी एशिया के प्रथम नोबेल पुरस्कार सम्मानित व्यक्ति थे। गुरूदेव ने अपने अंतिम दिनों में चित्र बनाना शुरू किया था।  उन्होंने  ग्यारह बार विदेशी यात्राये की थी, जिससे अंग्रेजी साहित्यकारों से उनका परिचय हुआ | उन्ही के प्रोत्साहन से रवीन्द्रनाथ ने अपने कुछ गीतों और कविताओ के अंगरेजी अनुवाद प्रकाशित किये थे |
  •   7 अगस्त 1941,को  महान कवि ने 80 वर्ष की आयु में अपनी आँखे मूंद ली ,लेकिन उनके दिए हुए राष्ट्रगान को आज भी पूरा देश एक साथ सम्मान के साथ गाता है |


 रवीन्द्रनाथ टैगोर की सर्वश्रेष्ठ कहानियाँ (List Of Stories by Rabindranath Tagore):


  • अनमोल भेंट
  • अनाथ
  • अपरिचिता
  • अवगुंठन
  • पिंजर
  • काबुलीवाला
  • सीमान्त
  • पाषाणी




Note-आशा करते है ये पोस्ट आपको पसंद आई होगी। ।अगर दी गयी जानकारी में कोई गलती लगे तो हमें ईमेल या comment कीजिये।हम सुधार करेंगे। Rabindranath Tagore short Biography Hindi. रबीन्द्रनाथ टैगोर short Biography Hindi




धन्यवाद

SHARE

Milan Tomic

Hi. I’m Designer of Blog Magic. I’m CEO/Founder of ThemeXpose. I’m Creative Art Director, Web Designer, UI/UX Designer, Interaction Designer, Industrial Designer, Web Developer, Business Enthusiast, StartUp Enthusiast, Speaker, Writer and Photographer. Inspired to make things looks better.

  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment

please do not enter any spam link in the comment box.