Missing Tile Syndrome जिसका आभाव है उसी पर मन क्यों अटक जाता है ?




Missing Tile Syndrome (मिसिंग टाइल सिंड्रोम)जिसका आभाव है उसी पर मन क्यों अटक जाता है ?

 

Missing Tile Syndrome एक मनोवैजानिक problem  है। जिसमे हम सिर्फ उन्ही चीज़ो के बारे में सोचते है जो हम नहीं पा सके और इसी वजह से हमारी लाइफ से खुशिया कहीं खो जाती है।देखा जाए तो अधिकतर लोग इस मिसिंग टाइल सिंड्रोम (Missing Tile Syndromeका शिकार है, लाइफ में चाहे कितना ही कुछ क्यों मिला हो उस तरफ हमारा ध्यान भी नहीं जाता। बस सुई वही अटक जाती है जो हासिल नहीं कर पाए,उसी एक कमी की वजह से लाइफ के कितने अनमोल वक़्त को गवां देते है। यही सबसे बड़ी वजह है हमारे दुखी होने की।

Missing Tile Syndrome  जिसका आभाव है उसी पर मन क्यों अटक जाता है ?
Missing Tile Syndrome  

 क्या किसी एक व्यक्ति या चीज़ की कमी से लाइफ रुक जाती है ?तो नहीं ,ऐसा नहीं होता। life की journey  तो अपनी speed से चलती रहेगी और बस वो कीमती पल, जिसको आनंद,उत्साह से जीने की बजाए दुखी होकर निकल देते। क्या आज इंसान इतना कमजोर हो गया है की उसका सुख-दुःख लोगो पर या भौतिक वस्तुओ पर depend करता है?

  • हमे लाइफ में हमे बहुत कुछ मिलता है बस गिनती उसी की होती जो नहीं मिला।बस जो मिलता है उसकी कोई कद्र नहीं होती और कभी ध्यान जाता क्या मिला है। एक बार सोचकर देखिये list तैयार हो जाएगी क्या पाया है आपने?बहुत simple सा example लेते है -क्या कभी आपने अपने शरीर पर ध्यान दिया है?शायद नहीं,इसमें क्या नया है शरीर तो सबको मिलता है। नहीं , एक healty बॉडी बहुतों को नसीब नहीं होती।देखिये उन लोगो को-किसी के हाथ नहीं,किसी के पैर ,किसी की आँख और बहुत। लेकिन फिर भी ऐसे कितने अपंग लोग मिसाल बने है जो बिना किसी शिकायत अपने परिश्रम से मंजिल तक पहुंच गए।हाल के ही एक ऐसी लड़की अरुणिमा सिन्हा जिसने एक हादसे में अपने पैर खो दिए लेकिन mount everest पर जाकर एक मिसाल बना दी उन लोगो के लिए जिनके पास सब कुछ होते हुए भी छोटी छोटी बातो को लेकर दुखड़ा रोते रहते है।हमारे चारो तरफ ऐसे कितने लोग है खाने को रोटी है रहने को घर। लेकिन आपका इन सब चीज़ो की तरफ ध्यान ही नहीं जाता। क्या इन छोटी छोटी चीज़ो के प्रति हमे ईश्वर का शुक्रिया नहीं करना चाहिए ?


  • उदहारण के तौर पर-मुँह में ३२ दांत है कभी उनका ध्यान नहीं रखते शायद कभी गिनती भी की हो लेकिन एक दांत के टूटते ही जीभ उसी खली जगह जाएगी something is missing दिन में कई बार सोचते रहेंगे दांत टूट गया। जब तक था कभी सोचा नहीं और अभी भी 31 बाकि है उनकी चिंता नहीं है बस जो नहीं है सारा ध्यान वही केंद्रित है।


  • जैसे एक room में हजारो tiles लगी हुई है और गलती से एक टाइल में छेद हो गया तो सारा ध्यान उस छेद पर ही जाएगा  बाकि की 999 जो सही है उसको कोई ध्यान नहीं देगा। ऐसा तो हमारा नजरिया है हर बात में कमी ढूंढ़ना तो दुखी रहना तो संभव है। बुद्ध के अनुसार ऐसी दृष्टि को असम्यक दृष्टि कहते है जिसका आभाव है उसी पर ध्यान रहता है। एक व्यक्ति वह है जिसकी life के प्रति बहुत शिकायते ,नाराजगी रहती है तो वह खुश कैसे रहेगा। और दूसरी तरफ वह व्यक्ति जो जीवन में मिली हर चीज़ का ईश्वर को शुक्रिया करता है उसके जीवन में आनंद ही रहता।


  • कई बार हम दुसरो से अपनी तुलना करके खुद का सुख चैन खो बैठते। उसके पास तो ये है हमारे पास नहीं, तो सारी जिंदगी दुसरो से jeoulasy (ईर्ष्या)में निकल दोगे। अब आपके मन में सवाल होगा की compete नहीं करंगे तो life में progress कैसे करेंगे?

Missing Tile Syndrome  जिसका आभाव है उसी पर मन क्यों अटक जाता है ?
Missing Tile Syndrome  

  •   Progress  होना उसी limit तक सही है जहाँ व्यक्ति इस syndrome से ग्रसित हो। compete करना गलत नहीं है। अपनी उन्नति के लिए compete भी करो और life में goal (लक्ष्य) भी रखो लेकिन उनके पूरा होने की उम्मीद नहीं करो। आपका काम अपना कर्म करना है फिर result जैसा भी हो ,उसमे अपना सुख चैन नहीं खो देना है। Missing Tile Syndrome एक ऐसा रोग है जो हमारा focus चुराकर हमारी लाइफ की साडी खुशिया छीन लेता है जिससे हमारे ऊपर mentally और physically बुरा असर पड़ता है।


  • आजकल तो रिश्ते भी इस syndrome का शिकार होने लगे है।आज के modern time में हर व्यक्ति की एक ही problem है कि किसी की प्रेमिका नहीं मिली और किसी का प्रेमी। बस जिंदगी यही आकर रुक गयी। उसी एक इंसान की याद जिंदगी भर बनी रहेगी ,जो मिला है उसे भूल जाएंगे। something is missing का ही रोना चलता रहेगा। अगर आपके life में भी कभी ऐसा कुछ हुआ है तो बहार आओ उन बातो से। आपके जीवन में बहुत कुछ है जो आपका इंतजार कर रहा है पर आपने तो दुःख की पट्टी से आँखे ढक रखी है।

Missing Tile Syndrome  जिसका आभाव है उसी पर मन क्यों अटक जाता है ?
Missing Tile Syndrome  

  • life की value को समझो इतनी सस्ती नहीं है जिंदगी ,जो जरा सी बात पर आकर रूक जाए। इससे बचने के लिए सबसे पहले तो अपना पॉजिटिव attitudeरखिये। life में बहुत कुछ हमारे अनुसार नहीं होता है ,तो जब आप कुछ कर नहीं सकते तो अपना सुख चैन खोने की क्या जरुरत है ?


  • आप अपने जीवन को आनंद ,उत्साह और खुशियों से भरना चाहते है तो आध्यात्मिक साधना को अपने जीवन का हिस्सा बनाए।खुशियाँ आपके पीछे पीछे आएंगी।



अध्यात्म से जुडी पोस्ट पढ़ने के लिए क्लिक करे





Note- Aap apne vichar hume comment krke jaroor btae kya apki life me to aisa kuch nhi hai. Missing Tile Syndrome (मिसिंग टाइल सिंड्रोम)

Thankyou



SHARE

Milan Tomic

Hi. I’m Designer of Blog Magic. I’m CEO/Founder of ThemeXpose. I’m Creative Art Director, Web Designer, UI/UX Designer, Interaction Designer, Industrial Designer, Web Developer, Business Enthusiast, StartUp Enthusiast, Speaker, Writer and Photographer. Inspired to make things looks better.

  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment

please do not enter any spam link in the comment box.